कांग्रेस नेता की राम मंदिर पर कौन सी विवादास्पद टिप्पणी ने कर्नाटक में राजनीतिक हंगामा शुरू कर दिया है?

हाल की घटना में, कांग्रेस नेता और कर्नाटक के पूर्व मंत्री, होलालकेरे आंजनेय ने राम मंदिर पर एक ऐसा बयान दिया जिस पर विपाक्षी नेताओ, विशेषकर के भाजपा नेताओ बसनगौड़ा पाटिल यतनाल और आर अशोक की ओर से क्रांतिकारी प्रतिक्रियाएं आईं।

राम मंदिर, ayodhya, ram mandir, bjp, congress, karnataka, BJP leader,Basanagouda Patil Yatnal,Karnataka Minister,Congress leader,Holalkere Anjaneya,state Chief Minister

कांग्रेस नेता की विवादास्पद टिप्पणी:

कांग्रेस नेता और कर्नाटक के पूर्व मंत्री होलालकेरे अंजनेय ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की तुलना भगवान राम से करके विवाद खड़ा कर दिया है। जिस वजह से कर्नाटक में राजनीति हंगामा शुरू हुआ, इस विषय पर भाजपा नेताओ बसनगौड़ा पाटिल यतनाल और आर अशोक की ओर से तीखी प्रतिक्रिया हुई है।

विवाद का संदर्भ:

इस विवाद का मुख्य कारण यह है कि मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने 22 जनवरी को अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर के उद्घाटन में शामिल नहीं होंगे। अंजनेय ने प्रतीक्रिया देते हुए कहा कि सिद्धरामय्या “हमारे राम” हैं और मंदिर की मूर्ति को “भाजपा के राम” माना जाएगा।

अंजनेय के बयान:

राम मंदिर, ayodhya, ram mandir, bjp, congress, karnataka, BJP leader,Basanagouda Patil Yatnal,Karnataka Minister,Congress leader,Holalkere Anjaneya,state Chief Minister

अंजनेय का सुझाव है कि सिद्धारमैया को अयोध्या जाने की जरूरत नहीं है और वह अपने गांव के राम मंदिर में पूजा कर सकते हैं। उनका दावा है कि अयोध्या मंदिर के लिए मूर्ति “भाजपा के राम” हैं, उन्होंने उन पर चुनिंदा निमंत्रण और भजन गाने का आरोप लगाया। अंजनेय ने आगे भाजपा पर धार्मिक और समुदाय-आधारित विभाजन का आरोप लगाया, बेघर लोगों के कल्याण पर वोटों को प्राथमिकता दी।

बीजेपी की प्रतिक्रिया:

बसनगौड़ा पाटिल यतनाल ने अंजनेय की आलोचना करते हुए उन्हें “बेवकूफ” और “हिंदू विरोधी” करार दिया। उन्होंने अंजनेय को हिंदू देवी-देवताओं पर सम्मानपूर्वक चर्चा करने की चेतावनी दी और सिद्धारमैया के पूजा कार्यों पर सवाल उठाए। विपक्ष के नेता आर अशोक ने ऐतिहासिक विवादों का हवाला देते हुए कांग्रेस पर राम मंदिर उद्घाटन से डरने का आरोप लगाया।

कर्नाटक में राजनीतिक तनाव:

टीपू जयंती मनाने के लिए सिद्धारमैया की आलोचना की जाती है, लेकिन कथित तौर पर वह राम मंदिर उद्घाटन को लेकर झिझक रहे हैं। उद्घाटन की प्रत्याशा के बीच हुबली से राम जन्मभूमि संघर्ष में भाग लेने वाले दो प्रतिभागियों को जेल भेज दिया गया।

राम मंदिर उद्घाटन से पहले कर्नाटक में विवादित बयानों से राजनीतिक तनाव बढ़ गया है। कांग्रेस और भाजपा धार्मिक और राजनीतिक प्रेरणाओं के आरोपों के साथ जुबानी जंग में लगे हुए हैं।

Leave a comment